कंप्यूटर के प्रकार -Type of Computer

computer ke prakar

हेलो दोस्तों , आज हम इस लेख में कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं , किस प्रकार के कंप्यूटर का क्या विशेषता है , इन सभी प्रश्नो का उत्तर हम इस पोस्ट के माध्यम से जानेंगे। कंप्यूटर को विभिन्न आधारों पर वर्गीकृत किया जा सकता है, जैसे आकार आधार पर , टेक्नोलॉजी के आधार पर और पीढ़ी के आधार पर वर्गीकृत किया जा सकता है।

कंप्यूटर के प्रकार-Type of Computer

प्रौद्योगिकी के आधार पर: कंप्यूटर को प्रौद्योगिकी के आधार पर निम्नलिखित प्रकारों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

एनालॉग कंप्यूटर (Analog Computer)

  • एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग भौतिक इकाई जैसे Pressure , Speed ,temperature, Length अदि को मापने के लिए किया जाता है।
  • एनालॉग कंप्यूटर भौतिक मात्रा को माप कर संख्या रूप में हमें आउटपुट देती है।
  • एनालॉग कंप्यूटर का ज्यादातर इंजीनियरिंग और विज्ञान क्षेत्र में किया जाता है।
  • एनालॉग कम्प्यूटर में एनालॉग सिग्नल को इनपुट के रूप में दिया जाता है।
  •  यह कंप्यूटर रिजल्ट को directly दिखा देता है ,यह किसी भी आउटपुट को स्टोर करके नहीं रखता है।
  • इस कंप्यूटर में ज्यादा मेमोरी नहीं होता इसिलए यह किसी भी आउटपुट को स्टोर करके नहीं रखता है।
  • उदहारण के लिए अगर आप थर्मामीटर में तापमान मापेंगे तो पहले वाले का तापमान नहीं दिखता है और आप फिर से अपना तापमान मापेंगे तो यह आप का पुराना  तापमान नहीं दिखाएगा , यह फिर से सुरु से मापेगा।
  • एनालॉग कंप्यूटर निरंतर आउटपुट दिखता है ,जैसे जैसे इनपुट में परिवर्तित होता  आउटपुट भी परिवर्तित होता हे।
  • एनालॉग कंप्यूटर का उदाहरण – स्पीडोमीटर , थर्मामीटर ,एनालॉग घडी अदि

एनालॉग कप्यूटर के प्रकार

  1. इलेक्ट्रॉनिक एनालॉग कंप्यूटर
  2. मैकेनिकल एनालॉग कंप्यूटर
  3. डिजिटल एनालॉग कम्प्यूटर

डिजिटल कंप्यूटर (Digital Computer)

डिजिटल कंप्यूटरों का उपयोग हमारे जीवन के सभी पहलुओं में किया जाता है। यह मनोरंजन, शिक्षा, व्यवसाय, और सरकार में उपयोग किए जाते हैं।वे हमारे जीवन के हर पहलू में मौजूद हैं और हमारे समाज के लिए एक आवश्यक उपकरण हैं।

  • जो कंप्यूटर बाइनरी नंबर (0 और 1 ) का उपयोग करके गणना करता है उन कंप्यूटर को डिजिटल कम्पूटर कहा जाता है।
  • डिजिटल नंबर 0 और 1 को मशीन भाषा भी कहा जाता है , कंप्यूटर केवल मशीन भाषा को ही समझता है।
  • डिजिटल कंप्यूटर में सभी प्रकार का इनपुट कम्पाइलर के द्वारा मशीन भाषा में परिवर्तित  और आउटपुट मशीन भासा से Human Readable Form  में बदलता है।
  • सबसे पहल डिजिटल 1940 के दशक के अंत में developed किया गया था।
  • डिजिटल कंप्यूटर बहुमुखी होते हैं और विभिन्न प्रकार के कार्यों को करने के लिए उपयोग किए जा सकते हैं।
  • डिजिटल कंप्यूटर विश्वसनीय होते हैं और आमतौर पर एनालॉग कंप्यूटरों की तुलना में कम खराबी होती है।
  • डिजिटल कंप्यूटर सस्ते होते हैं और आमतौर पर एनालॉग कंप्यूटरों की तुलना में अधिक किफायती होते हैं।
डिजिटल कंप्यूटर के चार मुख्य घटक हैं:
  • इनपुट डिवाइस: यह वह डिवाइस है जिसका उपयोग उपयोगकर्ता द्वारा कंप्यूटर को डेटा प्रदान करने के लिए किया जाता है। उदाहरणों में कीबोर्ड, माउस, कैमरा इत्यादि।
  • सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (CPU): यह कंप्यूटर का “दिमाग” है जो डेटा को संसाधित करता है और निर्देशों को निष्पादित करता है।
  • मेमोरी: यह वह स्थान है जहां कंप्यूटर डेटा और निर्देशों को संग्रहीत करता है।
  • आउटपुट डिवाइस: इसका उपयोग कंप्यूटर द्वारा उपयोगकर्ता को आउटपुट प्रदान करने के लिए किया जाता है। उदाहरणों में मॉनिटर, प्रिंटर, और स्पीकर शामिल हैं।

माइक्रो कंप्यूटर (Micro Computer) 

  • इसे Personal Computer (PC) भी कहा जाता है।
  • यह कंप्यूटर माइक्रोप्रोसेसर पर काम करता है।
  • Micro Computer में इनपुट/आउटपुट यूनिट , मदरबोर्ड , CPU , स्टोरेज यूनिट अदि उपकरण होते हैं।
  • यह आकार में छोटा होता है और इसकी कीमत भी कम होती है।
  • डेस्कटॉप ,लैपटॉप ,स्मार्टफोन अदि माइक्रो कंप्यूटर के उदाहरण है।

मिनी कंप्यूटर (Mini Computer) 

  • यह मिड-रेंज कंप्यूटर के रूप में जाना जाता है।
  • इसमें दो या दो से अधिक प्रोसेसर होते हैं।
  • अधिक प्रोसेसर होने के कारण इसमें एक से अधिंक यूजर एक साथ काम कर सकते हैं।
  • इस कंप्यूटर का प्रोसेसिंग क्षमता माइक्रो कंप्यूटर से अधिक और मेनफ़्रेम और सुपर कंप्यूटर से कम होता है।
  •  मिनी कंप्यूटर का उपयोग अधिकतर ट्रैफिक कण्ट्रोल ,बैंक ,बिलिंग ,डेटाबेस मैनेजमेंट ,एकाउंटिंग अदि क्षेत्र में किया जाता है।

मेनफ़्रेम कंप्यूटर (Mainframe Computer)

  • यह कंप्यूटर बहुत शक्तिशाली कंप्यूटर होते हैं ,इसका उपयोग बड़े बड़े संस्थान भारी-मात्रा मीं आंकड़ा संस्करण के लिए करते हैं।
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर आकार में बहुत बड़े होते हैं और इसे एक ही टाइम में कई सरे यूजर उपयोग कर सकते हैं।
  • इसका स्टोरेज क्षमता बहुत अधिक होता है।
  • इन कंप्यूटर में डाटा अधिक तीव्रता से  प्रोसेस होने के कारण इसका उपयोग बड़ी कंपनियां ,बैंक , रेलवे अदि जगहों में किया जाया है।
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर का उपयोग network data processing  किया जाता है जहाँ  संख्या में यूजर अपने डाटा प्रोसेस कराते हैं।
  • मेनफ्रेम कंप्यूटर को Wide Area Network बनाने में Central Computer की तरह उपयोग किया जाता है।

डिजिटल कंप्यूटरों को आमतौर पर उनके आकार और क्षमता के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है। सबसे छोटे डिजिटल कंप्यूटर माइक्रोकंप्यूटर होते हैं, जो आमतौर पर घरों और कार्यालयों में उपयोग किए जाते हैं। मध्यम आकार के डिजिटल कंप्यूटर मिनी कंप्यूटर होते हैं, जो आमतौर पर छोटे व्यवसायों और संगठनों में उपयोग किए जाते हैं। बड़े डिजिटल कंप्यूटर मेनफ्रेम कंप्यूटर होते हैं, जो आमतौर पर बड़े व्यवसायों और संगठनों में उपयोग किए जाते हैं। सबसे बड़े डिजिटल कंप्यूटर सुपरकंप्यूटर होते हैं, जो आमतौर पर वैज्ञानिक अनुसंधान और अन्य उच्च-प्रदर्शन अनुप्रयोगों में उपयोग किए जाते हैं। इसके बारे में निम्न में हम विस्तार से बताया है :

आकार और क्षमता के आधार पर कंप्यूटर के प्रकार

सुपर कंप्यूटर (Super Computer) 

  • सुपर कंप्यूटर आज के समय का सबसे Powerful कंप्यूटर है।
  • इसमें कई माइक्रोप्रोसेसर एक साथ काम करते हैं और यह एक साथ अरबो जटिलतम गणना को एक सेकंड में हल कर सकते हैं।
  • यह कंप्यूटर पैरेलल प्रोसेसिंग के आधार पर काम करती है।
  • इसकी गति को Flops (Floating-Point Operation Per Second में मापते हैं।
  • सुपर कंप्यूटर को रखने के लिए बड़े स्थान की आवश्यकता होती है क्यूंकि यह आकार में काफी ज्यादा बड़े होते हैं।
  •  इस कंप्यूटर का उपयोग मौसम का पूर्वानुमान ,परमाणु ऊर्जा अनुसन्धान ,मौसम विज्ञानं ,सेना अदि क्षेत्र में विशेष रूप में किया जाता है।
  • कुछ सुपर कंप्यूटर के नाम -Fujitsu Fugaku (Japan),Sunway TaihuLight (China ),Dell Frontera(U.S)

हाइब्रिड कंप्यूटर (Hybrid Computer)

  • हाइब्रिड कंप्यूटर एनालॉग और डिजिटल कंप्यूटर दोनों को मिलाकर बना होता है। इसीलिए इस हाइब्रिड कंप्यूटर कहा जाता है।
  • आमतौर पर हाइब्रिड कंप्यूटर का उपयोग हवाई जहाज , अस्पताल , वैज्ञानिक एप्लीकेशन आदि में किया जाता है।
  • Electrocardiogram Machine, Ultra Sound Machine, CT Scan Machine, ATM  अदि हाइब्रिड कंप्यूटर के उदाहरण है

सम्बंधित लेख 

  1. कंप्यूटर की  विषेशताएँ 
  2. कंप्यूटर का इतिहास
  3. कंप्यूटर के पीढ़ियां
  4. कंप्यूटर Shortcut Keys
  5. कंप्यूटर Abbreviation A to Z
  6. इनपुट और आउटपुट डिवाइस 
  7. 100 Computer question in hindi

दोस्तों इस पोस्ट में हम ने कंप्यूटर के प्रकार और उनके कार्य के बारे में विस्तार से समझाया है। आशा करता हूँ की आप को हमारा यह कंप्यूटर के प्रकार से सम्बंधित पोस्ट पसंद आया होगा। अगर आप को हमारा यह लेख पसंद आया तो आप हमें कमेंट कर के जरूर बताएं और अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूले। धन्यवाद ,आपका दिन शुभ हो।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top