Computer generation in hindi

Computer Generation in hindi-कंप्यूटर के पीढ़ीयां हिंदी में 

हेलो दोस्तों आज हम इस  Computer generation in  hindi  पोस्ट  में हम  को computer  generation यानि कंप्यूटर की इतिहास और समय  के साथ कंप्यूटर में हुए परिवर्तन के बारे में बताएंगे। 

कंप्यूटर का इतिहास बोहत पुराने हे ,हजारों साल पूर्व  गणना करने के लिए Abacus का उपयोग किया  जाता था जो की आज कल भी कई स्कूलों  में गणना करने के लिए उपयोग किया  जाता हे

इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के सुरु होते ही  कंप्यूटर  की बिकास तेज़ी से हुआ ,समय समय पर जरुरत की हिसाब से कंप्यूटर के आकार ,प्रकार और उसके कार्यप्रणाली में सुधार किया  गया और परिणाम स्वरुप हमें आज का ये  आधुनिक कंप्यूटर मिला।

सुरु से आज तक कंप्यूटर को बेहतर बनाने के लिए उसमें  कई सारे परिवर्तन  कीया  गया इसी परिवर्तन  को Computer Generation  कहा जाता हे और इसे पांच पीढ़ीओ में बांटा गया हे

1946 में ENIAC (Electronic Numerical Integrator and Computer) नामक  प्रथम इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर , J.P Eckert और John Mauchly के द्वारा बिकसित किया  गया जिससे  Computer  generation  कासुरुवात  हुई.. 

 

GenerationsTime periodTechnology used
First Generation1946-1959vacuum tube
Second Generation1959-1965transistors
Third Generation1965-1971Integrated circuits(ICs)
Fourth Generation1971-1980VLSI microprocessor
Fifth Generation1980-PresentAI & ULSI

प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर  (First generation of computer)

सन 1946 से 1959 तक प्रथम पीढ़ी  मानी  जाती हे। इस जेनेरशन  के कंप्यूटर में Vacuum Tube को कंप्यूटर के मुख्य घटक के रूप में इस्तमाल किया  जाता था। 

Vacuum Tube का प्रयोग हेतु ये कंप्यूटर साइज में बहुत बड़े थे और बहुत ही गर्मी उत्प्पन करते थे। 

Vacuum Tube का अविष्कार John Ambrose Fleming  ने 1906 में किए थे। 

इस  Generation  में इनपुट और  आउटपुट के लिये   Punch  card  ,Paper  tape   और Magnetic  tape , का इस्तेमाल किया  जाता था 

बहुत गर्मी उत्पन्न  होने के वझे से इसे AC यानि ठन्डे बाताबरण के अबस्यकता होती थी 

First Computer Generation कंप्यूटर में Low-Level यानि मशीन भाषा  का इस्तेमाल किया  जाता था और यह Multitasking करने में सक्षम नहीं था  यह केबल एक टाइम में एक ही कार्य कर सकता था। 

मेमोरी के लिए Magnetic Drums  का इस्तेमाल किया  जाता था जो की  बोहत कम मात्रा में जानकारी रखने  में सक्षम था 

प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर के विषेशताएं 

  • Vacuum tube का उपयोग 
  • मेमोरी यानि Data store करने के लिए Magnetic Drums का इस्तेमाल किया जाता था जो की बोहत कम डाटा को स्टोर कर सकता था 
  • यह कंप्यूटर size में बहुत बड़े होते थे ,इस वझे से इसे एक जगह से दूसरे जगह ले जाना बोहत ही मुश्किल था ,इसका बजन लगभग 30 टन का था 
  • इनपुट के लिए पंच कार्ड ,पेपर टेप ,मैग्नेटिक टेप का इस्तेमाल किया जाता था 
  • आउटपुट Print out पर निर्भर था 
  • यह कम्प्पूटर बहुत धीमी गति से प्रोसेस कर पाते थे 
  • एक Time पे केबल एक ही कार्य कर सकते थे 
  • Unreliable थे यानि कंप्यूटर का रिजल्ट पूरा ठीक ही आएगा इसका कोई गारंटी नहीं था 
  • यह बहुत बिजली खपत करते थे और साथ ही बहुत गर्मी पैदा करते थे 
  • AC की ज़रूरत होती थी 
  • यह कंप्यूटर बोहत ही मेहेंगे थे 
  •  यह  केबल मशीन भाषा को Support  करता  था 
  •  कई सरे ऑपरेटर के जरुरत होते थे 
  • निरंतर रखरखाव के ज़रूरत होते थे 
  • यह कंप्यूटर Millisecond में कैलकुलेशन कर सकता था 

Example of First generation of computer(प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर के उदहारण  )

1.ENIAC( Electronic Numerical Integrator and Computer )

इस  कम्यूटर का पूरा नाम Electronic Numerical Integrator and Computer हे  , इसकाअविष्कारक  J.P Eckert और John Mauchly ने किया था ,इसी  कंप्यूटर में vacuum tube  का इस्तेमाल किआ गया था 

यह कंप्यूटर में लगभग  20,000  vacuum tube ,70,000 रजिस्टर और 10,000 कपैसिटर  का इस्तेमाल किया  जाता था 

2.EDVAC (Electronic Discreate variable Automatic Computer)

EANIC के अविष्कारक ने इसका निर्माण किया था ,यह एक Binary Serial  कंप्यूटर था ,यह सीरियल मेमोरी उपयोग से  Addition, Subtraction, multiplication ,division  जैसे कार्य को करता था।  

3.UNIVAC(Universal Automatic Computer)

यह उस समय का Commercial  कंप्यूटर में से एक था ,उसी समय  UNIVAC-1 को  एक Commercial data-processing कंप्यूटर के रूप में बनाया गया था। 

4.IBM-701(International Business Machine)

इस कंप्यूटर बिकसित करने के समय Defense Calculator  के नाम से जाना जाता था 

5.IBM-650 

 

द्वितीय पीढ़ी के कंप्यूटर  (Second generation of computer)

इस जेनेरशन  के समय 1959 से 1965 तक माना  गया हे ,

द्वितीय पीढ़ी के कम्प्यूटरों में Vacuum Tube  के जगह Transistor का इस्तेमाल किया  गया था,जो की इस पीढ़ी के मुख्य घटक था।

Transistor का अविष्कार  William Shockley ने 1947 में किया था। 

Transistor के उपयोग के कारण  ये प्रथम पीढ़ी  कंप्यूटर के मुकाबले साइज में छोटे हो गये । 

प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर से यह अधिक स्पीड ,कम ऊर्जा उत्प्पन ,कम बिजली खपत करने में सख्यम था। 

इस पीढ़ी के कंप्यूटर को ऑपरेट करने के लिए 1 या 2 ओपेरटर की आवश्यकता  होती थी जब की पहले जनरेशन में 100 से भी ज्यादा ऑपरेटर के आवश्यकता होती थी 

इनपुट के लिए पंच कार्ड और असेंबली लैंग्वेज का इस्तेमाल किआ जाने लगा 

Magnetic Tape को प्राइमरी मेमोरी और Magnetic  Disk  को सेकेंडरी मेमोरी के लिये  उपयोग किया  जाता था 

 इन कंप्यूटर में  FORTRAN और COBOL जैसे उच्च स्तरीय भाषा  का उपयोग किया  गया 

AC यानि cooling  system  की जरुरत अभी भी थी 

द्वतीय पीढ़ी के कंप्यूटर के विषेशताएं 

  • यह कंप्यूटर Transistor Technology पर आधारित थे 
  • Transistor के उपयोग से यह कंप्यूटर आकर में प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर से छोटे हो गये  
  • प्रथम पीढ़ी के  कंप्यूटर से अधिक तेज़  और अधिक  बिस्वसनीय 
  • प्रथम पीढ़ी के  कंप्यूटर से कम ऊर्जा उत्पन्न और कम बिजली की खपत होते थे 
  • अभी भी  AC की जरुरत थी 
  • Machine Language और Assembly Language का प्रयोग  
  • कंप्यूटर Microsecond में कैलकुलेशन कर सकता था 

Example of Second  generation of computer(द्वितीय पीढ़ी के कंप्यूटर के उदहारण  )

  1. UNIVAC 1108 
  2. IBM-7094 
  3. CDC-3600 
  4. CDC-1604 
  5. Honeywell-400 

तृतीय पीढ़ी के कंप्यूटर  (Third generation of computer)

तीसरी पीढ़ी  के अबधि सन 1965 से  1971  तक माना जाता हे ,इस पीढ़ी के कंप्यूटर में  Transistor के जगह Integrated Circuits (ICs)का इस्तेमाल हुआ 

ICs का अविष्कार Robert Noyce और Jack Kilby ने  किये थे। 

एक ICs कई सारे  transistors, resistors और  capacitors से मिल कर बनता  हे। 

ICs के उपयोग से कंप्यूटर के आकार में परिवर्तन हुआ साथ ही साथ कंप्यूटर अधिक तेज़ी से कैलकुलेशन करने में सक्ष्यम हुआ। 

तृतीय पीढ़ी के कंप्यूटर के बिसेसताएं 

  • Integrated Circuits (ICs) का उपयोग 
  • कंप्यूटर स्टोरेज में बिकास हुआ 
  • Time-Sharing और Multiprogramming  ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग 
  • keyboard और  Monitor का इस्तेमाल इस पीढ़ी में हुआ 
  • पहले  पीढ़ी के कंप्यूटर के तुलना में ये ज्यादा स्पीड ,बिस्वसनीय और छोटे साइज के थे 
  • कम गर्मी उत्पन्न करती थी पहले पीढ़ी के कंप्यूटर के मुकाबले 
  • FORTRON,COBOL,BASIC,PASCAL जैसे उच्च स्तरीय भाषा का उपयोग 
  • कंप्यूटर Nanosecond में गणना कर सकता था 
  • ICs chip का रख रखवा बोहत ही मुश्किल था 

Example of Third   generation of computer(तृतीय पीढ़ी  के कंप्यूटर के उदहारण  )

  1. IBM-370 
  2. PDP (Personal Data Processor)
  3. honeywell-6000 series
  4. IBM-360 Series
  5. ICL-2900

चतुर्थ पीढ़ी के कंप्यूटर (Fourth generation of computer)

सन 1971 से 1980 बिच  विकशित  हुये कंप्यूटर को फोर्थ जेनेरशन  कहा जाता हे। 

इस पीढ़ी में ICs  को और भी विकसित किआ गया  जिसे  Very  Large Scale  Integration(VLSI) नाम दिया गया  था  .

 इस जेनेरशन  में एक Chip का आबिस्कर हुआ जिसे Micro processor कहा जाता था ,यह VLSI टेक्नोलॉजी पे आधार था। 

Micro processor के उपयोग से कंप्यूटर आकर में बोहत छोटे होने के साथ अधिक तेज़ भी हो गये। 

 इस  पीढ़ी   में माउस और  अन्य पेरीफेरल डिवाइस का उपयोग किया  गया  

Operating System DOS(Disk Operating System) का इस्तेमाल इस पीढ़ी  में हुआ और Network का उपयोग इसी जेनेरशन  हुआ था। 

चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर के बिसेसताएं 

  • VLSI Technology का उपयोग 
  • कंप्यूटर के Size बोहत छोटे आने  लगे 
  • GUI (Graphical User Interface) आधारित  ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग किया  गया
  • कंप्यूटर बोहत सस्ते दाम में मिलने लगे 
  • Network और Internet का उपयोग  इस पीढ़ी में सुरु हुआ 
  •  AC का आबस्यक्ता कम हुआ 
  • Multimedia का बिकास हुआ 
  • कंप्यूटर अधिक तेज़ और प्रभाबशाली  बना 
  • इसे एक जगह  से दूसरे जगह  ले जाना बोहत ही आसान था 
  • यह कंप्यूटर  Nanosecond से Picosecond में गणना कर सकता था 
  • पहले पीढ़ी के  कंप्यूटर  से अधिक विस्वसनीयता 

Example of Fourth generation of computer(चतुर्थ  पीढ़ी  के कंप्यूटर के उदहारण )

  1. STAR  1000 
  2. PDP-11 
  3. PCs 
  4. DEC-10 
  5. CRAY -1 
  6. CRAY -X -MP 

पांचवां पीढ़ी के कंप्यूटर (Fifth generation of computer)

सन 1980 से वर्त्तमान तक कप्यूटर को पांचवे पीढ़ी  कंप्यूटर माना जाता हे ,इस इस जनरेशन में VLSI Technology  के जगह ULSI (Ultra Large Scale Integration)  Technology का इस्तेमाल किया  गया 

इस पीढ़ी  की कंप्यूटर के बिकाश अभी भी जारी हे इसमें Artificial Intelligence विकसित  करने का कार्य किया  जा रहा हे जैसे कम्प्यूटर इंसान की तरह काम कर सके। 

C,C++,JAVA जैसे उच्च स्तरीय भाषा  का उपयोग किआ जा रहा हे 

Sound, Image, text आदि का विकाश  हुआ, internet और  network के मदद से कंप्यूटर को एक दूसरे के साथ जोड़ने के साथ -साथ सुचना  का भी आदान प्रदान करना बोहत  आसान हो गया।  

पांचवां पीढ़ी के कंप्यूटर के बिसेसताएं 

  • ULSI का प्रयोग 
  • कंप्यूटर बोहत ही छोटे Size के आने लगे
  • User Friendly Interface का विकास  हुआ  
  • C ,C++,Java जैसे उच्च स्तरीय भाषा का प्रयोग 
  • Artificial Intelligence का विकास  
  • GUI  पर आधार ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल  
  • पहले पीढ़ी से अधिक तेज़ और विस्वसनीयता 
  • कंप्यूटर की स्टोरेज क्षमता बोहत ज्यादा बढ़ गयी 

Example of Fifth generation of computer(पांचबे  पीढ़ी  के कंप्यूटर के उदहारण )

  1. Desktop
  2. Laptop
  3. palmtop
  4. ChromeBook
  5. NoteBook
  6. UltraBook

सम्बंधित लेख 

  1. 100+ कंप्यूटर सामान्य ज्ञान क्विज 
  2. कंप्यूटर हिंदी नोट्स 
  3. कंप्यूटर की विषेशताएं 
  4. की बोर्ड के सभी चिन्ह के नाम हिंदी में 
  5. कंप्यूटर शॉर्टकट की 
  6. 100 Important Full Forms
  7. इनपुट और आउटपुट डिवाइस
  8. कंप्यूटर हार्डवेयर 
  9. कंप्यूटर सॉफ्टवेयर 
  10. कंप्यूटर नोट्स
  11. कंप्यूटर का इतिहास 
  12. कंप्यूटर के प्रकार 

दोस्तों आपको हमारा यह Computer generation से सम्बंधित पोस्ट कैसा लगा आप हमें कमेंट करके जरूर बताएं। अगर आप का किसी भी प्रकार का डाउट है या आप हमें कोई सुझाव देना चाहते हैं तो आप हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं। 
आप का दिन सुभ हो ,धन्यवाद। 

Leave a Comment