Computer memory in hindi

कंप्यूटर मेमोरी-Computer memory in hindi

दोस्तों हमारा इस ब्लॉग में आपका स्वागत है। आज हम इस पोस्ट में कंप्यूटर मेमोरी (Computer Memory) के वारे में विस्तार रूप से जानकारी देने जा रहे हैं ,अगर आप एक कंप्यूटर की स्टूडेंट हैं तो आप के लिए कंप्यूटर मेमोरी (Computer Memory) के वारे में जानना बेहद जरुरी है। इस  पोस्ट Computer Memory in hindi में  हम Computer Memory क्या होता हे और ये कितने प्रकार के हे ,इस बिसय में पूरी जानकारी आप को हिंदी भाषा में बिस्तर रूप में जानकारी देंगे ।

Computer memory in hindi

कंप्यूटर मेमोरी इंसान की दिमाग  की तरहा होता हे। जैसे हम अपने दिमाग में सरे चीज़ो को  याद करके रखतें हैं, ठीक उसी तरहा कम्यूटर  भी अपने मेमोरी में सारे Data  को स्टोर कर के रखता हे।

आसान भाषा में कहाँ जाये तो computer memory   कंप्यूटर का एक जगह हे जहाँ सारे डाटा को  सुरक्षित (Save ) रखा जाता हे। Computer Memory कंप्यूटर का एक मुख्य हीस्सा हे। इसके बिना कंप्यूटर कोई छोटा सा भी काम नहीं कर सकता है । जो डाटा कंप्यूटर में Processing के लिए Input किआ जाता हे और प्रोसेस होने के बाद output देता है  ,इन सभी डाटा को कंप्यूटर अपने मेमोरी में स्टोर कर के रखता हे।

 (Computer Memory) मेमोरी कितने प्रकार के  होते हैं ?

Type of computer memory  in hindi -कंप्यूटर मेमोरी के प्रकार

स्टोरेज क्षमता  और स्पीड के आधार पर Computer Memory मुख्य रूप में  चार  प्रकार के होती हे।

  • रेजिस्टर मेमोरी (Register Memory )
  • कैश मेमोरी (Cache Memory )
  • Primary Memory/Main memory
  • Secondary Memory/Auxiliary Memory

रेजिस्टर मेमोरी (Register Memory )

Register Memory कंप्यूटर मेमोरी  के सबसे छोटो और तेज़ (Speed ) मेमोरी होता हे। कंप्यूटर का Processor रजिस्टर मेमोरी को Direct एक्सेस करता हे क्यूंकि यह कंप्यूटर प्रोसेसर का ही एक पार्ट हे।

यह कंप्यूटर का main memory का हिस्सा नहीं हे और यह CPU में  रजिस्टर के रूप में स्तिथ होता है जो रजिस्टर एक Data holding Element होता हे।

यह अस्थाई रूप से वह सरे डाटा,निर्देश और मेमोरी एड्रेस  को स्टोर कर के रखता हे जो की  CPU (Central Processing Unit) द्वारा बर्तमान में संसाधित हो रहा होता हे।

कैश मेमोरी (Cache Memory )

Cache Memory एक बहुत ही हाई स्पीड मेमोरी होता हे ,यह Main Memory  से ज्यादा तेज़ होती हे जो की CPU और Main Memory के बीच में स्तीथ होता हे , यह आकार में बोहत छोटी होती हे .

Cache Memory प्रोसेसर के द्वारा बार बार किए जाने बाले  प्रोग्राम और निर्देस को अपने अंदर Save  कर लेता हे ,प्रोसेसर किसी भी डाटा को प्रोसेस करने से पहले उसी फाइल को Cache Memory में चेक करता हे अगर वो फाइल उसे वहां नहीं मिलता हे तो फिर वो Main Memory  में  चेक करता हे और इसी प्रकार कैश मेमोरी से प्रोसेसर डाटा को बोहत आसानी से Access कर सकता हे और इस प्रकार कैश मेमोरी प्रोसेसर के अधिक तेजी से काम करने में सहायता करती हे।

Primary Memory(Main Memory)

इस Computer  Memory को Main Memory भी कहा जाता हे ,यह मेमोरी में डाटा तब तक स्टोर रेहता हे जब तक कंप्यूटर ऑन रहता हे ,जब कंप्यूटर बंद हो जता हे तब इसका डाटा नस्ट हो जाता हे।

Primary Memory में केबल कंप्यूटर के द्वारा बर्तमान में प्रोसेस किआ जाने बाला डाटा स्टोर रहता हे ,किसी एक डाटा का प्रोसेस ख़तम होने के बाद वो डाटा यूजर के द्वारा सेकेंडरी मेमोरी में सुरक्षित कर लिया जाता हे नहीं तो वो डाटा डिलीट  हो जाता हे या फेर उसके जगह नयी डाटा या प्रोग्राम ले लेता हे।

यह मेमोरी अस्थाई होता हे और इसे कंप्यूटर की भासा में  Volatile Memory कहा जाता हे।

Volatile Memory- जिस मेमोरी में डाटा या निर्देस स्थायी हो कर नहीं रहता ,किसी भी कारन से अगर कंप्यूटर बंद होता हे तो यह डाटा डेलेट  हो जाता हे ,इस प्रकार मेमोरी को  भोलटाइले मेमोरी  कहाँ जाता हे
RAM(Random Access Memory) एक भोलटाइले मेमोरी का उदहारण हे

प्राइमरी मेमोरी के प्रकार -Type of Primary Memory

प्राइमरी मेमोरी दो प्रकार के होते हैं

  1. RAM(Random Access Memory)
  2. ROM (Read Only Memory)

RAM(Random Access Memory)

computer memory RAM

RAM का  पूरा नाम Random Access Memory होता हे ,यह एक भोलटाइल मेमोरी (Volatile Memory) हे इसी कारन इसमें डाटा हमीसा के लिए Save नहीं किआ जा सकता हे

यह मेमोरी में डाटा तब तक रहता हे  जब तक कंप्यूटर ओन रहता हे ,कंप्यूटर बंद होने के साथ साथ इसका डाटा भी डिलीट हो जाता हे
RAM मेमोरी  CPU का भाग होती हे इसी कारन CPU इसका डाटा डायरेक्ट एक्सेस कर सकता हे

CPU बिना RAM के कोई भी काम नहीं कर सकता हे

इस मेमोरी में डाटा सेल में स्टोर हो के रहता हे और प्रत्येक सेल का एक Unique address होता हे और हर एक सेल कुछ  Row  और Column  से मिल के बनता हे

RAM दो प्रकार के होते है

  1. SRAM(Static Random Access Memory)
  2. DRAM(Dynamic Random Access Memory)
SRAM(Static Random Access Memory)

SRAM तब तक डाटा को  Store कर के रखता हे जब तक इसमें Power Supply होता रहता हे , Power Supply बंद होने से इसका सारा डेटा डिलीट हो जाता हे

यह एक Semiconductor मेमोरी होता हे ,इसका प्रत्येक सेल 6 ट्रांजिस्टर से बना होता हे इसी कारण यह बार बार रिफ्रेश नहीं होते और  डाटा लम्बे समय तक Store रहता हे।

DRAM(Dynamic Random Access Memory)

इसका मेमोरी सेल(Cell ) में एक Semiconductor और एक Capacitor होता हे ,यह तब तक डाटा को store  करता इ जब तक कंप्यूटर में बिजली रहता हे।
DRAM में मेमोरी सेल बार-बार रिफ्रेश होते रहते हे

ROM(Read Only Memory)

इसका पूरा नाम Read Only Memory होता हे
ROM मेमोरी Non-Volatile होता हे ,इसमें डाटा Permanently सुरक्षित हो के रहता हे ,कंप्यूटर में Power  Supply  बंद होने पर भी इसका डाटा डिलीट नहीं होती।

Type of ROM

Read Only Memory तीन प्रकर के होते हे

  1. PROM
  2. EPROM
  3. EEPOM
PROM
इसका पूरा नाम Programmable Read Only Memory होता हे,यह मेमोरी चिप में सिर्फ एक बार प्रोग्राम लिखा जा सकता हे
एक बार  लिखने बाद उसमे  परिबर्तन नहीं किआ जा सकता हे  न ही उसे डिलीट किआ जा सकता हे
EPROM
इसका पूरा नाम Erasable Programmable Read Only Memory होता हे ,इसमें प्रोग्राम लिखने क साथ-साथ इसे मिटाया भी जा सकता हे ,इसके डाटा को Erase करने क लिए Ultra Violet Light का इस्तेमाल किआ जाता हे।
EEPROM

EEPROM का पूरा नाम Electrically  Erasable Programmable Read Only Memory होता हे ,इसमें डाटा को लगभग 10000 बार डिलीट और रपोग्राम किआ जा सकता हे 

इसके डाटा को Erase  करने के लिए Electric Signal pass किआ जाता हे

SECONDARY MRMORY

सेकेंडरी मेमोरी को External Memory और Auxiliary memory भी कहा जाता हे ,यह मेमोरी  Non-Volatile nature के होते है मतलब यह हे की इसमें डाटा Permanently Store किआ जाता हे ,कंप्यूटर में power supply बंद होने पर भी इसका डाटा सुरक्षित रहता हे

सेकेंडरी मेमोरी प्राइमरी मेमोरी से Slow  होता  हे पर इसका storage capacity  प्राइमरी मेमोरी से अधिक होता हे

CPU सेकेंडरी मेमोरी के डाटा direct access नहीं करता है।  इस मेमोरी का डाटा पहले प्राइमरी मेमोरी में लोड होता हे फिर जा के CPU इसको एक्सेस करता हे

सेकेंडरी मेमोरी के प्रकार -Different type of secondary memory

MAGNETIC TAPE

computer secondary memory magnetic tape

पुराने ज़माने के ऑडियो कैसेड इस मेमोरी के अंतर्गत हे ,आज कल इसका उपयोग नहीं किया जा रहा है। इसमें प्लास्टिक के रिबन के ऊपर चुम्बकीय पर्दार्थ की लेयर होती थी ,इसमें डाटा स्टोर करने के लिये  हेड का इस्तेमाल किया  जाता था।

MAGNETIC DISK

computer storage device magneic disk

मैग्नेटिक डिस्क  डाटा स्टोर करने के लिए मैग्नेटाइजेसन प्रोसेस का उपयोग करता हे,  यह चुम्बकीय कोटिंग से ढंकी एक डिस्क हे।
Example -Hard disk drive, floppy disk  और  zip disk  मैग्नेटिक डिस्क के उदहारण हे

OPTICAL DISK

secondary storage DVD

यह एक कंप्यूटर स्टोरेज डिस्क हे  जो की डाटा को कम्प्यूटर में डिजिटल फॉर्म में  Store करती हे ,और इसके डाटा को लेज़र बीम के उपयोग से लिखा और पढ़ा जा सकता हे

CD, DVD और  Blue Ray डिस्क ये सब  ऑप्टिकल डिस्क के उदाहरण है

CD
इसका पूरा नाम Compact Disk होता हे ,इसमें 700 MB तक स्टोरेज स्पेस होता हे।यह एक पोर्टेबल स्टोरेज डिस्क हे मतलब यह हे की इस डाटा को हम किसी दूसरे कंप्यूटर में भी शिफ्ट कर सकते है।

CD तीन प्रकार के होते है

1.CD-ROM(Compact disk-read only memory)
इसमें डाटा को केबल पढ़ा जा सकता हे उसे डिलीट या Modify नहीं किआ जा सकता हे
manufacturing के समाय ही उसमे डाटा को  स्टोर कर दिए जाते है

2.CD-R(Compact disk-Recordable)
डाटा को सिर्फ एक बार ही लिखा जा सकता हे और एक बार ही डिलीट किआ जा सकता हे  .इसके बाद इसमें कोई परिबर्तन नहीं किआ जा सकता हे।

CD-RW(Comact Disk-Rewritable)

डाटा को इसमें बार-बार डिलीट किया जा सकता है और लिखा जा सकता हे।

DVD

DVD का पूरा नाम Digital Video Disk होता हे ,यह भी CD की जैसा 3 प्रकार के आते है  जैसे की DVD ROM,DVD Recordable और DVD Rewritable.

pen drive 

usb flash drive

इसे USB Drive और flash drive  भी कहा जाता हे ,यह एक Portable  कंप्यूटर  मेमोरी हे।

इसका  इस्तेमाल मुख्य रूप से डाटा ट्रांसफर और डाटा स्टोर करने के लिए इस्तेमाल किआ जाता हे।

Computer Memory से सम्बंधित प्रश्न 

1. 
कंप्यूटर में कितने प्रकार के मेमोरी होता है ?

2. 
निम्नलिखित में से सबसे बड़ी इकाई कौनसी है ?

3. 
निम्न में से सबसे छोटा मेमोरी कौन सा है ?

4. 
बिजली बंद होने के बाद भी जो मेमोरी अपना डाटा को रखती है , उसे क्या कहा जाता है ?

5. 
सेकेंडरी स्टोरेज मीडिया से हार्डडिस्क में किसी प्रोग्राम को कॉपी करने की प्रक्रिया को क्या कहा जाता है ?

6. 
जब हम PC में किसी डॉक्यूमेंट पर काम करते हैं ,तो वह डाटा अस्थाई रूप से कहाँ स्टोर होता है ?

7. 
निम्न में से कौन एक स्टोरेज डिवाइस है ?

8. 
कंप्यूटर के जिस भाग में डाटा एवं प्रोग्राम को स्टोर किया जाता है , उसे क्या कहा जाता है ?

9. 
निम्न में से कौन सत्य है ?

10. 
निम्न में से कौन कंप्यूटर का बिल्ट इन मेमोरी है ?

Name
Email

कंप्यूटर से सम्बंधित हमारे अन्य लेख 

दोस्तों आप को हमारा यह ” Computer Memory ” पोस्ट कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं। हम आशा करते हैं की आप को हमारा यह लेख पसंद आया होगा।
आप का दिन सुभ हो। धन्यवाद।

Leave a Comment