विश्व के प्रमुख ज्वालामुखी

विश्व के प्रमुख ज्वालामुखी

विश्व के प्रमुख ज्वालामुखी। Main Volcanoes in the World

विश्व के अधिकांश सक्रिय ज्वालामुखी समुद्र में स्थित है।विश्व भर में कई ज्वालामुखी हैं, जो विभिन्न आकारों और गतिविधियों के होते हैं। वर्त्तमान में कुछ ज्वालामुखी सक्रिय हैं, जबकि अन्य सुप्त या मृत हैं। जो ज्वालामुखी सक्रिय होते हैं वे नियमित रूप से विस्फोट करते रहते हैं, जबकि सुप्त ज्वालामुखी लंबे समय तक विस्फोट नहीं करते हैं, लेकिन फिर से सक्रिय हो सकते हैं। मृत ज्वालामुखी अब विस्फोट नहीं करते हैं।

विश्व के कुछ प्रमुख ज्वालामुखी निम्न में है

बैरन ज्वालामुखी : लगभग 3 की.मि. में फैला यह भारत का एकमात्र सक्रीय ज्वालामुखी है जो अंडमान निकोवार द्वीप समूह के बैरन द्वीप पर स्थित है। यहाँ का ज्वालामुखी 28 मई 2005 को फटा  था। भारत सरकार इस द्वीप को एक संरक्षित क्षेत्र घोसित कर दिया है जिसे यहाँ कोई भी मानवीय गतिविधि पर प्रतिबंध है।

माउंट एटना, इटली: यह यूरोप का सबसे बड़ा सक्रिय ज्वालामुखी है और भूमध्यसागरीय क्षेत्र में सबसे अधिक सक्रिय ज्वालामुखियों में से एक है। यह इटली के सिसिली द्वीप पर स्थित है और लगभग 3000 वर्षों से लगातार सक्रिय है और हाल ही में 2022 में विस्फोट हुआ था।

माउंट माउना लोआ, हवाई: यह हवाई द्वीप पर स्थित एक विशाल ढाल ज्वालामुखी है। यह दुनिया का सबसे बड़ा सक्रिय ज्वालामुखी है और पिछले 700,000 वर्षों में लगातार सक्रिय रहा है।

माउंट फ़ूजी, जापान: यह जापान का सबसे ऊंचा पर्वत और सबसे प्रसिद्ध ज्वालामुखी है। यह फ़ूजी पर्वत श्रृंखला में स्थित है और पिछले 3000 वर्षों में केवल तीन बार फटा है। यह प्राकृतिक सौर्दर्य का एक विशेष स्थान है , जिसे 22 जून 2013 को विश्व विरासत सूचि में जोड़ा गया था।

इसे भी पढ़ें – विश्व का भूगोल सामान्य ज्ञान प्रश्न

माउंट किलाऊएआ, हवाई: यह हवाई द्वीप पर स्थित एक विशाल ढाल ज्वालामुखी है। यह दुनिया का सबसे सक्रिय ज्वालामुखी है और पिछले 350 वर्षों में 50 से अधिक बार फटा है।

माउंट एरेनल, कोलंबिया: यह कोलंबिया के वेले देल काउका विभाग में स्थित एक ढाल ज्वालामुखी है। यह दुनिया के सबसे सक्रिय ज्वालामुखियों में से एक है और पिछले 100 वर्षों में 30 से अधिक बार फटा है।

माउंट किलिमंजारो, तंजानिया: यह अफ्रीका का सबसे ऊंचा पर्वत और एक ढाल ज्वालामुखी है। यह पिछले 200,000 वर्षों में कम से कम 3 बार फटा है।

माउंट माउना केआ, हवाई: यह हवाई द्वीप पर स्थित एक विशाल ढाल ज्वालामुखी है। यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा सक्रिय ज्वालामुखी है और पिछले 200,000 वर्षों में कम से कम 10 बार फटा है।

माउंट स्ट्रोमबोली, इटली: यह इटली के सिसली द्वीप पर स्थित एक स्ट्रैटोवोल्कानो है। यह यूरोप का सबसे सक्रिय ज्वालामुखी है और पिछले 2000 वर्षों में लगातार सक्रिय रहा है।

माउंट पिनातुबो, फिलीपींस: यह फिलीपींस के लुज़ोन द्वीप पर स्थित एक स्ट्रैटोवोल्कानो है। यह 1991 में एक शक्तिशाली विस्फोट के लिए जाना जाता है, जिसने 74,000 से अधिक लोगों की जान ली थी।

माउंट सेंट हेलेन्स, संयुक्त राज्य अमेरिका: यह संयुक्त राज्य अमेरिका के वाशिंगटन राज्य में स्थित एक स्ट्रैटोवोल्कानो है। यह 1980 में एक शक्तिशाली विस्फोट के लिए जाना जाता है, जिसने 57 लोगों की जान ली थी और 250 वर्ग मील से अधिक क्षेत्र को नष्ट कर दिया था।

ज्वालामुखी विस्फोटों के कारण बड़े पैमाने पर तबाही हो सकती है, जिसमें जान-माल का नुकसान, संपत्ति का नुकसान और पर्यावरणीय क्षति शामिल है। इसलिए, ज्वालामुखी गतिविधि की निगरानी और चेतावनी प्रणाली विकसित करना महत्वपूर्ण है।

सम्बंधित लेख

दोस्तों आशा करता हूँ की आप को हमारा यह “विश्व के प्रमुख ज्वालामुखी” लेख पसंद आया होगा। अरग आप को हमारा यह लेख पसंद आया तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें कमेंट कर के जरूर बताएं।  धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top